दिल्ली सल्तनत – खिलजी वंश का इतिहास ( 1290 – 1320 ) : Latest History Notes

खिलजी-वंश-का- इतिहास

दिल्ली सल्तनत – खिलजी वंश का इतिहास ( 1290 – 1320 )

  • खिलजी वंश की स्थापना किसने की – जलालुद्दीन फ़िरोज ख़िलजी
  • खिलजी क्रांति – जाति व नस्ल आधारित शासन व्यवस्था से संबंधित
  • महोमद हबीब ने इसे ग्रामीण क्रांति की संज्ञा दी है ।
  • खिलजी कौन थे – अफगानिस्तान की हेलमंड घाटी में निवास करने वाली तुर्क जाति ।
  • इस काल में दिल्ली सल्तनत का विस्तार सुदूर दक्षिण तक हो गया ।

जलालुद्दीन फिरोज खिलजी – 1290 – 1296 : खिलजी वंश का इतिहास

  • जलालुद्दीन फिरोज खिलजी का राजयभिषेक – 13 जून 1290 , किलोखरी के महलो में 70 वर्ष की आयु में
  • दिल्ली सल्तनत का सबसे वर्ध सुल्तान – जलालुद्दीन फिरोज खिलजी
  • सुल्तान बनने से पहले जलालुद्दीन फिरोज खिलजी समाना का सूबेदार तथा सर ए जहांदार  के पद पर नियुक्त था ।
  • जलालुद्दीन फिरोज खिलजी इतिहास में मंगोल आक्रमण दबाने के लिए प्रसिद्ध था ।

शासन की निति –

  • लौह एवं रक्त की निति का त्याग कर अहस्तक्षेप की निति को अपनाया ।
  • दिल्ली का प्रथम सुल्तान जिसने जनता की इच्छा को शासन का आधार बनाया ।

जलालुद्दीन खिलजी के समय मंगोल आक्रमण –

  • 1292 ईस्वी – अब्दुला ने नेतृत्व में
  • 1292 ईस्वी – हलाकू के पौत्र उलुग खां के नेतृत्व में

मंगोलपुरी – जलालुद्दीन खिलजी के समय 4 हजार मंगोलो ने इस्लाम धर्म स्वीकार किया व दिल्ली के पास ही बस गए ।

  • जलालुद्दीन खिलजी के समय 1296 में अलाउद्दीन खिलजी द्वारा देवगिरी के यादव वंश के राजा रामचन्द्र पर आक्रमण किया । ( यह दिल्ली सल्तनत का प्रथम दक्षिण अभियान माना जाता है )

जलालुद्दीन खिलजी की मृत्यु – जुलाई 1296 में कड़ामानिकपुर नामक स्थान पर अलाउद्दीन खिलजी के द्वारा हत्या कर दी गई ।

Also Read – 

अलाउद्दीन खिलजी – 1296 – 1316 ईस्वी : खिलजी वंश का इतिहास

  • मूलनाम – अली गुर्साप
  • पिता – शिहाबुद्दीन खिलजी ( जलालुद्दीन का भाई )
  • सिंहासन की प्राप्ति – जलालुद्दीन की पत्नी मल्लिका ए जहाँ ने अपने छोटे पुत्र रुकनुद्दीन इब्राहिम को सुल्तान घोषित किया ।
  • कड़ा मानिकपुर से दिल्ली जाते समय अलाउद्दीन ने जनता में दक्षिण से लुटा गया धन बाँटा ।
  • अक्टूबर 1296 में बलबन द्वारा निर्मित लाल महलो में अपना राज्यभिषेक करवाया ।
  • उपाधी – सिकंदर ए सानी

अलाउद्दीन के दो सपने –

  • विश्व विजेता बनना
  • नविन धर्म चलाना

दिल्ली कोतवाल उता उल मुल्क के कहने पर दोनों सपने छोड़ दिए ।

अलाउद्दीन के कार्य – खिलजी वंश का इतिहास

  • उलेमा वर्ग पर प्रतिबंध
  • शराब पर पूर्ण प्रतिबंध
  • उच्च परिवारों के बीच वैवाहिक संबंधो पर रोक

अलाउद्दीन खिलजी की उत्तर भारत विजय : खिलजी वंश का इतिहास

गुजरात आक्रमण – 1298-99 ईस्वी

  • नेतृत्व – नुसरत खां
  • शासक – रायकर्ण
  • नुसरत खां ने खंभात बंदरगाह से हिन्दू किन्नर मलिक काफूर की 1000 दीनार में खरीदा ।

रणथम्भौर विजय – 1301 ईस्वी

  • नेतृत्व – नुसरत खान , उलुग खान
  • शासक – हम्मीर देव चौहान
  • हम्मीर देव के सेनापति रणमल ने धोखा किया व युद्ध में नुसरत खान मारा गया ।
  • हम्मीर देव चौहान की पत्नी रंगदेवी ने जौहर किया ।

चितौड़ विजय – 1303 ईस्वी

  • नेतृत्व – अलाउद्दीन खिलजी
  • शासक – रतन सिंह रावल
  • इस युद्ध का कारण रानी पद्मिनी की सुंदरता को मन जाता है ( मलिक महोमद जायसी की रचना ” पद्मावत – 1541 के अनुसार “)
  • रानी पद्मिनी ने जौहर किया
  • चितौड़ का नाम बदलकर खिज्राबाद रखा गया व अलाउद्दीन का पुत्र खिज्र खां प्रशासक नियुक्त हुआ ।
  • इस अभियान में अमीर खुसरो अलाउद्दीन के साथ था ।
  • इसी समय मंगोल तारगी बेग ने दिल्ली पर आक्रमण किया ।

मालवा विजय – 1305 ईस्वी

  • मालवा प्रदेश – उज्जैन , धार , मांडू , चंदेरी
  • नेतृत्व – आइन उल मुल्क
  • शासक – महलकदेव

मारवाड़ विजय – 1308 ईस्वी ( सिवाना – बाड़मेर )

  • नेतृत्व – कमालुद्दीन गुर्ग

जालौर विजय – 1311 ईस्वी

  • नेतृत्व – कमालुद्दीन गुर्ग
  • शासक – कान्हड़देव चौहान
  • इस युद्ध का कारण कान्हड़देव के पुत्र वीरमदेव तथा अलाउद्दीन खिलजी की पुत्री फिरोजा में मध्य प्रेम संबंध बताया जाता है ।

Also Read – 

अलाउद्दीन खिलजी की दक्षिण भारत पर विजय : खिलजी वंश का इतिहास
  • सभी अभियानों का नेतृत्व मलिक काफूर ने किया ।

अलाउद्दीन खिलजी की दक्षिण विजय की जानकारी देने वाली पुस्तके –

  • जियाउद्दीन बरनी की पुस्तक – तारीख ए फिरोजशाही 
  • अमीर खुसरो की पुस्तक – खजाइन उल फुतुह 
  • इसामी की पुस्तक – फुतुह उस सलातीन 

खिलजी वंश का इतिहास

  • मध्यकालीन भारत का प्रथम शासक जिसने दक्षिण भारत को फतह किया – अलाउद्दीन खिलजी
  • दक्षिण पर प्रथम आक्रमण 1303 में वारंगल पर था जो असफल रहा ।

देवगिरी पर आक्रमण – 1307 – 1308 ईस्वी

  • शासक – रामचंद्र देव
  • अलाउद्दीन ने रामचद्र देव को ” राय – रायन ” की उपाधि दी ।

तेलंगाना / वारंगल अभियान – 1309 – 1310 ईस्वी

  • शासक – प्रतापरूद्र देव  ( काकतीय वंश )
  • प्रतापरूद्र देव  ( काकतीय वंश ) ने अपनी सोने की मूर्ति बनवाकर और गले में सोने की जंजीर डालकर आत्मसमर्पण किया ।
  • इसी समय कोहिनूर हीरा प्रतापरूद्र देव  ( काकतीय वंश ) ने मलिक काफूर को दिया ।

द्वार समुद्र विजय – 1310 ईस्वी

  • शासक – वीर बल्लाल तृतीय ( होयसल वंश )

पांड्य / मदुरै विजय – 1311 ईस्वी

  • शासक – वीर पाण्ड्य
  • वीर पांडेय के भाई सूंदर पांड्य ने आक्रमण के लिए आमंत्रित किया ।

देवगिरी पर पुनः आक्रमण – 1313 ईस्वी

  • शासक – शंकरदेव यादव
  • अलाउद्दीन खिलजी ने देवगिरी को कुल 3 बार जीता ।

Also Read – 

अलाउद्दीन खिलजी के सुधार कार्य –  खिलजी वंश का इतिहास

न्याय वयवस्था – खिलजी वंश का इतिहास

  • अलाउद्दीन ने शरीयत के नियमो के विरुद्ध न्याय किया ।
  • राज्य की सर्वोच्य न्यायिक शक्ति सुल्तान में निहित थी ।
  • सुल्तान ने बाद सद्र-ए-जहाँ या काजी-उल-कुजात का पद था , जिसका सहायक नायब काजी होता था ।
  • ईश्वरी प्रसाद के अनुसार वह भाईचारे या पारिवारिक संबंधो में पड़े बिना किसी भेदभाव के दंड देता था ।

सैन्य सुधार –

  • प्रथम सुल्तान जिसने दिल्ली में स्थायी सेना व्यवस्था प्रारम्भ की ।
  • सैनिको को जागीर देने की प्रथा समाप्त कर नगद वेतन देना प्रारम्भ किया ।
  • वेतन – 234 टंका वार्षिक , एक अतिरिक्त घोड़ा रखने पर 78 टंका वार्षिक अधिक मिलता था ।
  • आरिज – ए – मुमालिक नामक सैन्य मंत्री नियुक्त किया ।
  • सैनिको का हुलिया दर्ज किया जाता था ।
  • सर्वप्रथम घोड़ो को दागने की प्रथा प्रारम्भ की गई ।
  • एक घोड़ा रखने वाला सैनिक एक अस्पा तथा दो घोड़े रखने वाला द्वि अस्पा कहलाता था ।

आर्थिक सुधार – खिलजी वंश का इतिहास

  • अलाउद्दीन ने खालसा भूमि के विस्तार हेतु जागीर प्रथा का अंत कर सभी प्रदत भूमिया छीन ली ।
  • वक्फ – धर्मार्थ प्राप्त हुई भूमि
  • खालसा – सीधे राज्य के अधीन भूमि
  • मिल्क – राज्य से पेंशन , इनाम में प्राप्त भूमि

कर व्यवस्था – खिलजी वंश का इतिहास

  • हिन्दुओ को भूमि उपज का 50% तथा मुसलमानो को 25% कर देना पड़ता था ।

गैर मुस्लिमो से 4 कर लिए जाते थे – खिलजी वंश का इतिहास

  • जजिया कर – सैन्य सेवा के बदले कर
  • खराज – उपज का 50 %
  • घरी / गृह कर – नया मकान बनाने पर
  • चरी / चरागाह कर – दुधारू पशुओ पर कर

Also Read – 

  • गनीमा / ख़ुम्स – लूट के माल का 4/5 भाग राज्य का तथा 1/5 भाग सेना का होता था ।
  • जकात – प्रत्येक मुस्लिम को अपनी आय का 1/40 भाग गरीब जनता के लिए देना पड़ता था ।
  • मसाहत – भूमि के माप को कहा जाता था ( प्रथम सुल्तान जिसने भूमि माप प्रारम्भ करवाई )
  • दीवान ए मुख़्तराज – बकाया करो तथा भूमि माप से सम्बंधित स्थापित नया विभाग ।
  • उश्र – मुस्लिमो से लिया जाने वाला कृषि कर ।
  • अलाउद्दीन ने हिन्दू पदाधिकारियों के विशेष अधिकारों में कमी कर दी ।

बाजार नियंत्रण प्रणाली –

  • बरनी के अनुसार – ” एक विशाल स्थाई सेना जिसे काम वेतन पर गुजारा करना था उसके लिए सुल्तान ने जीवन निर्वाह की वस्तुओ का मूल्य स्थाई कर दिया “
  • सराय ए अदल – न्याय का स्थान ( यमुना नदी के तट पर निर्मित बाजार जहाँ वस्त्र व अन्य कीमती वस्तुओ का व्यापर होता था )
  • अल्लाउद्दीन को को सार्वजनिक वितरण प्रणाली का जनक कहा जाता है ।

दीवान ए रियासत – व्यापर विभाग ( खिलजी वंश का इतिहास )

  • सदर ए रियासत – व्यापर विभाग का सर्वोच्य अधिकारी
  • सहना – बाजार का अध्यक्ष
  • बरीद – गुप्तचर अधिकारी
  • मुनहिया – गुत्पचर
  • मलिक मकबूल प्रथम सहना था ।
  • अनाज के बड़े – बड़े गोदाम बनवाये तथा अकाल के समय हर घर को आधा मन अनाज बटवाया ।

खिलजी वंश का इतिहास

  • अलाउद्दीन खिलजी की मृत्यु – 4 जनवरी 1316
  • अलाउद्दीन का मकबरा – जामा मस्जिद के बहार दिल्ली
  • अलाउद्दीन अंतिम समय कोढ़ रोग से पीड़ित था । मलिक काफूर के कहने पर जहर दे दिया गया

अलाउद्दीन के निर्माण कार्य – खिलजी वंश का इतिहास

  • अलाई दरवाजा
  • हौजखास
  • सीरी फोर्ट
  • जमात खाना मस्जिद

प्रमुख कथन – खिलजी वंश का इतिहास

  • एल्फिस्टन के अनुसार – उसका शासन गौरवपूर्ण था । अनेक मूर्खतापूर्ण एवं क्रूर नियमो के बावजूद भी वह शासक था ।
  • जोधपुर से प्राप्त संस्कृत अभिलेख के अनुसार – अलाउद्दीन के देवतुल्य शौर्य से पृथ्वी कांप उठी ।
  • जैन मुनि ककसुरी के अनुसार – उसके द्वारा विजिट किलो की कौन गणना कर सकता है ।
  • अमीर खुसरो व इमामी के अनुसार – अलाउद्दीन एक भाग्यशाली शासक था ।

शिहाबुद्दीन उमर – 1316 ईस्वी

  • मलिक काफूर के संरक्षण में सुल्तान बना ।
  • लगभग 2 माह में मुबारक खां ( खिलजी का पुत्र ) ने मलिक काफूर व उमर की हत्या कर दी व स्वय सुल्तान बन गया ।

कुतुबुद्दीन मुबारक शाह – 1316 – 1320 ईस्वी

  • स्वय को खलीफा घोषित किया ।
  • इसके समय खुसरो खां के हाथो में शासन था ।
  • बरनी के अनुसार यह सुल्तान विलासी प्रवृति का था , जो कभी – कभी दरबार ने नंग्न अवस्था में पहुंच जाता था ।
  • इसकी हत्या खुसरो ने कर दी ।

नासिरुद्दीन खुसरो खां – अप्रैल – सितम्बर 1320 ईस्वी : खिलजी वंश का इतिहास

  • हिन्दू माता से जन्मा प्रथम शासक
  • पैगम्बर के सेनापति की उपाधि धारण की तथा खुत्बा पढ़वाया ।
  • इसके समय “इस्लाम खतरे में है ” , ” इस्लाम का शत्रु ” इत्यादि नारे लगे .
  • इसकी हत्या सितम्बर 1320 में गियासुद्दीन तुगलक ने कर दी ।

Thumb

Also Read – 

हमारे ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करे Whatsapp Group  || Telegram Group
Download Our Application  Click Here
Facebook पर जॉब न्यूज़ पाने के लिए  फॉलो करे
YouTUbe चैनल को सब्सक्राइब करें Subscribe Now
ALSO READ
[ PDF NOTES ] राजस्थान की प्राचीन सभ्यताएं | परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण राजस्थान GK [ Most Important 180 Questions ]
हरियाणा प्रदेश की पांरपरिक वेशभूषा | Most Important Haryana Gk Notes 100 Questions
महाभारत से संबंधित Questions | Important Questions Mahabharata (Top-100)

Frequently Asked Questions –

Avatar

Hi, I'm Sandeep Singh live in Bhadra (RAJ). Founder of Hind Job Alert. We provides Govt Job Notification, Admit Card, Answer Key, Results, Syllabus, Exam Notes Etc.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment